मेरी गुनाह क्या है ।

               ॥ मेरी  गुनाह क्या है ।।

चित्र आभार :गूगल

क्यूं हूँ मै बेबस
मेरी गुनाह क्या है ।
क्यो भटकती हूँ मै दर-दर
मेरी पनाह कहाँ है ।

                      मै जख्मी हूँ मै लूटी हूँ
                      दरिन्दों के उन पापी हाथों से ।
                      मुझे इंसाफ़ चाहिए मै बेटी हूँ ।
                      भारत के इन बहुरुपी-बौनी सरकारों से ।

हूँ मै मायूस किसलिए
क्या मै इक स्त्री हूँ इसलिए ।
हम निर्भया को है इतना भय किसलिए
क्या हम लिहाज़ों-मर्यादों के बंधन मे है जकड़े इसलिए ।
               
                 क्यूं हूँ मै बेबस
                 मेरी गुनाह क्या है
                 क्यों भटकती हूँ मै दर-दर
                 मेरी पनाह कहाँ है ।
   © अमित  फोर्बेसगंजी

                 

8 thoughts on “मेरी गुनाह क्या है ।”

  1. दोस्तों पसंद आए तो अपना बहूमुल्य प्रतिक्रिया अवश्य दे। धन्यवाद ।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat