यौवन की प्याला

                             चित्र आभार:गूगल

महान कवि बच्चन के स्टाईल में मेरा एक छोटा -सा प्रयास

देख मृग-नयनी फूट रही

है    तन    की    ज्वाला,

छलक रही अधरों से उनकी

है   अविरल   अंगूरी   हाला,

          करती हृदय पर है मरा

          वह  नित  नई  आघात,

                      सोचता हूँ बंध परिणय में उनसे

                      पी जाऊँ भरी यौवन की प्याला ।

 

One Reply to “यौवन की प्याला”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat