उसकी निगाहें

                                ॥ उसकी निगाहें ॥

झकझोरती है उसकी यादें मुझे अब भी
शायद निगाहें उसकी कुछ कहना चाहती थी ।
                    वो जुबां से कुछ कह ना सकी और
                    मै इशारा समझ ना सका ।
रह गई क़सक दिल में बस इत्ती सी
पड़ न सका मै जो इशारों में लिखी इक चिट्ठी थी ।
                                    ॥अमित कुमार रजक ॥
             
             

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat