तुम और हम ।

                   ॥तुम और हम॥

तुमने हाँक लगाई, हम हुँकार बन गये।
तुमने हाथ लगाया, हम हथियार बन गए।।
                     तेरी फूँक से उठी थी चिन्गारी कभी-
                     धधक उठीं लपटें, हम अंगार बन गए।

परचम उठाए  हम साथ तुम्हारे जो चले-
तुम्हारी उम्मीदें बढ़ी-तुम उम्मीदवार बन गए।
                 मुफ्त में लेकर हमारे मतदान की ताकत-
                 उपर गए तुम, तुम अधिकार बन गए।।

सरकारी इसारे पर दुल्हन की डोली उठी-
सेहरा तुमको मिला , हम कहार बन गए।।
               हमारी गरीबी और बदनसीबी का रोना
            हम गवारों के गवाॅर, तुम होसियार बन गए।।

।। अमित फोर्बेसगंजी ।।

 

चित्र आभार :गूगल

7 thoughts on “तुम और हम ।

  1. दोस्तों यह मेरी तीसरी कविता है पसंद आए तो अपना प्रतिक्रिया जरुर दें और अपने दोस्तों के साथ साझा जरूर करे। धन्यवाद।।

  2. बेहद उम्दा ,
    रचना का स्तर ऊचां हो रहा है ।
    आप आकाश की ऊँचायो को छुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *